Breaking News

उत्तरकाशी में सुरंग में फंसे 40 मजदूरों के लिए कर्नल जेके सिंह ने भेजा जीवनदायिनी संदेश

sonu jha

कोलकाता : दिल्ली में रिपब्लिक डे परेड सहित आर्मी डे पर हर साल कमेंट्री करने वाले वीरता पदक विजेता भारतीय सेना के रिटायर्ड कर्नल जेके सिंह, जिनकी आवाज के बालीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन से लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तक मुरीद हैं। उन्होंने अब उत्तराखंड के उत्तरकाशी में रविवार सुबह हुए भूस्खलन के कारण निर्माणाधीन सुरंग में पिछले कई दिनों से फंसे 40 मजदूरों के लिए देशवासियों की तरफ से जीवनदायिनी व प्रेरणात्मक संदेश भेजा है। वर्तमान में झारखंड पुलिस के एसटीएफ में एसपी पद पर सेवा दे रहे कर्नल सिंह के इस प्रेरणादायक संदेश की चारों तरफ चर्चा हो रही है। उन्होंने लिखा- ऐ मेरे मजदूर भाइयों मेरी बात ध्यान से सुनों, सुरंग में जहां हो उसी स्थान से सुनों, जो गौरवशाली बिहार से हो पूरे देश की प्रार्थना समेटे हो, तुम तो कुंवर सिंह के बेटे हो तुम राष्ट्र धर्म पूर्ण कर पुण्य लाओगे ये जंग बेशक जीत के आओगे।

जो कला श्रेष्ठ पश्चिम बंगाल से हैं ध्यान से सुनो, तुम्हीं तो समझदारी, तुम्हीं तो सूझ-बूझ, तुम्हीं बुद्धि, होश हो जीतोगे फिर तुम्हीं, तुम्हीं तो आज के सुभाष चंद्र बोस हो। जो विरासत के धनी ओडिशा से हो, जंगलों, दुर्गम इलाके में भी हमेशा जिंदादिली के पास हो, तुम्ही तो देश की श्वास हो तुम्ही वीर सुरेंद्र साई, तुम्ही तो मधुसूदन दास हो।शूरवीरों की धरती झारखंड के वीर मजदूरों तुम तो उलिहातु के वंशज होपूरे देश के सम्मान हो तुम्ही तो आज के बिरसा भगवान हो।
तुम्ही तो ताकत, तुम्ही तो शक्ति होतुम्ही तो धरती आबा की अपार देश भक्ति हो तुम हर हाल में अंधेरे को चीर कर आओगे और भारत माता की जय करते हुए सबों को प्रेम लाओगे।

जो हिमालय का ताज पहने हिमाचल से हो तुम्हे तो ठंड में रहने की आदत है।
तुम में कूट-कूट कर नैना देवी का आशीष, जामा मस्जिद की इबादत है
तुम में शालनता की नर्मी है देश भक्ति की असीम गर्मी है। तुम में पहले से वादियों की सुंदरता, पर्वतों का असीम आनंद है, तुम्हीं में डाक्टर यूएस परमार और पूर्णानन्द है।जो अजेय असम से हो उन्हें ये समय भी समझता है, तुम्हें तो ब्रह्मपुत्र एक तिनके पे पार करना आता है, चारों धाम की भारत के ऊंची उड़ान के तुम्ही तो सबसे मजबूत पर हो, तुम्ही तो राम प्रसाद बिसमिल, तुम्ही तो कुशल कोनवर हो।जो देव भूम उत्तराखंड से हो, प्रार्थना स्थली अनंत, अलोकिक अखंड से हो तुम तो उनके वंशज हो जो कभी नहीं हारा हो, तुम्ही तो वीर कालू सिंह महारा हो।

तुम सब भारत के बेटे हो तुम आज पूरे भारत की प्रार्थना समेटे हो, और जब पूरा भारत कुछ चाहता है तुम्हारे सामने हर बाधा व्यर्थ, बेकार है। तुम्हारे साथ तो पूरा देश, समाज, सरकार है। जब सारा अवाम कुछ कहता है तो वह होकर रहता है, तुम सभी वापस आओगे।अपने परिवार के साथ छठ मनाओगे
तुम सबको सृष्टिकर्ता बाहर वापस लाएंगे, ईश्वर और तिरंगा दोनों तुम्हे बचाएंगे।
उठो लड़ो सर्द हवाओं से, वहशी फिजाओं से, याद रखो जब-जब उपर वाला चुनौतियां इस पृथ्वी पर धरता है, भारत का वीर बेटा उसे स्वीकार कर चुनौतियों से हर बार लड़ता है। चाहे समय कितना भी बीतता है, आखिरकार वही जीतता है। वह जल्द ही जीतता है।

मेरे भाई सबको साथ सकुशल लाओगे, हम सबको भरोसा है। आप सब बहुत जल्द आओगे।जो देश के लिए निस्वार्थ लड़ता है, वो समस्त देशवासियों की प्रार्थनाओं में रहता है, आज आप मंदिर की घंटियों में और हर अजान में हो, आप हर दिल, धड़कनों, पूरे हिंदुस्तान में हो i

 

About editor

Check Also

बंगाली कीर्तन की खोई हुई महिमा वापस लाने के लिए ‘दरबारी पदबली’ लौट रहा है।

 कोलकाता: बंगाली शब्द ‘कीर्तन’ भारतीय संगीत की एक शाखा है, जिसके संगीत तत्व, भाषा, दर्शन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *