Breaking News

डीजल की बढ़ती कीमतों के बीच रेलवे का हो रहा सौ फीसदी इलेक्ट्रिफिकेशन, सालाना 3800 करोड़ रुपये की होगी बचत

सौरभ झा की रिपोर्ट-

file photo

 

Indian Railways Electrification: दिल्ली रेल डिवीजन भी अब पूरी तरह से डीजल मुक्त हो गया है. नोली-शामल-टपरी रेल लाइन और सोनीपत-गोहाना रेललाइन का विद्युतीकरण कार्य पूरा हो गया है. चीफ सेफ्टी कमिश्नर ने इन दोनों रेल सेक्शन पर बिजली इंजन से रेल चलाने की अनुमति दे दी है.

Indian Railways Electrification: रेलवे ने ट्रेनों का अब सौ फीसदी इलेक्ट्रिफिकेशन करने और पूरी तरह से डीजल मुक्त करने की शुरुआत कर दी है. इसके तहत रेल लाइन के इलेक्ट्रिफिकेशन के साथ-साथ एयरकंडीशनर और लाइट के लिए भी डीजल की जरूरत नहीं पड़ेगी. दरअसल रूस-यूक्रेन युद्ध की के बीच तेल की बढ़ती कीमतों की वजह से ये कदम और भी महत्वपूर्ण हो गया है.

भारतीय रेलवे द्वारा ट्रेन के कोचों में इस बदलाव से नेशनल ट्रांसपोर्टर को सालाना करीब 3800 करोड़ रुपये से ज्यादा की बचत होगी. अब तक सिर्फ ट्रेनों के संचालन के लिए ओवरहेड केबल्स का इस्तेमाल किया जाता था. वहीं अब इस माध्यम का उपयोग ट्रेनों के अंदर लाइट और एयर कंडीशनिंग के लिए भी किया जाएगा.

 

भारतीय रेलवे की बड़ी पहल

फिलहाल भारतीय रेलवे ने 1586 ट्रेनों (992 रेक) को एंड ऑन जेनरेशन (ईओजी) से हेड ऑन जेनरेशन (एचओजी) में बदल दिया है. रेलवे के वरिष्ठ सरकारी अधिकारी जी.के बंसल के मुताबिक, इस कदम से कार्बन डायऑक्साइड उत्सर्जन में लगभग 5.8 लाख टन सालान की कमी आएगी. साथ ही महंगे आयातित डीजल की बचत के मामले में सालाना 3854 करोड़ रुपये की बचत होगी. इसका कार्यान्वयन फरवरी 2022 में पूरा हुआ था. बंसल के मुताबिक, एचओजी सिस्टम की कुल लागत सिर्फ 60 करोड़ रुपये थी और यह पूरी तरह स्वदेशी है.

डीजल मुक्त हुआ दिल्ली रेल डिवीजन

वहीं दिल्ली रेल डिवीजन भी अब पूरी तरह से डीजल मुक्त हो गया है. नोली-शामल-टपरी रेल लाइन और सोनीपत-गोहाना रेललाइन का विद्युतीकरण कार्य पूरा हो गया है. चीफ सेफ्टी कमिश्नर ने इन दोनों रेल सेक्शन पर बिजली इंजन से रेल चलाने की अनुमति दे दी है. इसके साथ ही शत प्रतिशत विद्युतीकरण वाला यह उत्तर रेलवे का पहला मंडल बन गया है. इससे न सिर्फ ट्रेनों और मालगाड़ियों की रफ्तार बढ़ेगी, बल्कि पर्यावरण संरक्षण में भी मदद मिलेगी

 

जल्द ही दिल्ली से सहारनपुर के बीच बिजली इंजन से ट्रेनों की आवाजाही शुरू हो जाएगी. बिजली इंजन से ट्रेनों की आवाजाही शुरू होने से मुजफ्फरनगर-मेरठ सिटी-गाजियाबाद होकर गुजरने वाली ट्रेनों और मालगाड़ियों को इस रूट से भेजा जा सकेगा. इससे सहारनपुर-मेरठ सिटी-गाजियाबाद रेल सेक्शन पर दबाव कम करने में मदद मिलेगी. अधिकारियों का कहना है कि दिल्ली से सहारनपुर के बीच इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट (ईएमयू) ट्रेनों की संख्या बढ़ाई जा सकेगी जिससे यात्रियों को सुविधा होगी.

 

 

About editor

Check Also

संदेशखाली की घटना ने मध्ययुगीन बर्बरता को भी मात दे दिया है : शिवराज

  हावड़ा : मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बंगाल के संदेशखाली …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *