Breaking News

बीएसएफ ने भारत-बांग्लादेश सीमा से 16 किलोग्राम मानव बाल किए जब्त, जवानों को देख भागा तस्कर

कोलकाता : दक्षिण बंगाल फ्रंटियर अंतर्गत बीएसएफ की 82वीं बटालियन के जवानों ने बंगाल के नदिया जिले में भारत-बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास एक बार फिर मानव बालों की तस्करी को नाकाम करते हुए 16 किलोग्राम बाल जब्त किए हैं, जिन्हें तस्करी कर बांग्लादेश ले जाया जा रहा था। बीएसएफ ने रविवार को एक बयान में यह जानकारी दी। बताया गया कि दो सितंबर को बीएसएफ की सीमा चौकी हृृदयपुर के इलाके से जवानों ने इसे जब्त किया। अधिकारियों ने बताया कि जवानों ने अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास भारत की ओर से तस्करों की संदिग्ध गतिविधियों को देखा जो घने जूट के खेत और अंधेरे का लाभ उठाकर तस्करी की फिराक में थे। जवानों द्वारा पीछा करने पर तस्कर मानव बाल से भरे थैलों को छोड़कर घने अंधेरे और झाडिय़ों का फायदा उठाकर भागने में कामयाब हो गया। मौके से मिले बोरे से 16 किलोग्राम मानव बाल बरामद हुए। बीएसएफ ने जब्त मानव बाल को आगे की कार्यवाही हेतु कस्टम कार्यालय तेहट को सौंप दिया है। इधर, इस सफलता पर 82वीं वाहिनी के कार्यवाहक कमांडिंग आफिसर नवीन कुमार ने कहा कि यह केवल ड्यूटी पर तैनात जवानों द्वारा प्रदर्शित सतर्कता के कारण संभव हो सका है। अधिकारी ने साफ शब्दों में कहा कि उनके जवानों की नजरों से कुछ नहीं छिप सकता। बता दें कि इस वाहिनी के जवानों ने इससे पहले 24 जुलाई को भी हृृदयपुर इलाके से ही 25 किलोग्राम मानव बाल जब्त किए थे। अधिकारियों ने बताया कि बांग्लादेश में विग व्यापार में उपयोग के लिए बाल की अत्याधिक मांग है। इसलिए तस्कर आए दिन इस सीमा से होकर तस्करी की कोशिश करते है। गौरतलब है कि पिछले करीब दो वर्षों से बंगाल में भारत-बांग्लादेश सीमा पर मानव बालों की तस्करी बीएसएफ के लिए चिंता का एक नया कारण बन गई है। खासकर नदिया जिले की सीमा से ही मानव बालों की ज्यादातर तस्करी की कोशिशें हो रही है। दक्षिण बंगाल फ्रंटियर, बीएसएफ के जवानों ने पिछले करीब डेढ़ साल में बांग्लादेश में तस्करी के दौरान 450 किलो से अधिक मानव बाल जब्त किए हैं।

About editor

Check Also

संदेशखाली की घटना ने मध्ययुगीन बर्बरता को भी मात दे दिया है : शिवराज

  हावड़ा : मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बंगाल के संदेशखाली …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *