Breaking News

हावड़ा स्टेशन को मिला गोल्डन स्टेशन का खिताब

संजीव कुमार को पुर्व रेलवे हावड़ा डिविजन कानया डीआरएम नियुक्त किया गया

 

हावड़ा ः हावड़ा स्टेशन को गोल्डन स्टेशन के खिताब से नवाजा गया। एक कार्यक्रम हावड़ा स्टेशन के न्यू कॉम्प्लेक्स में आयोजित किया गया था। उसी कार्यक्रम में हावड़ा स्टेशन को यह सम्मान मिला। मालूम हो कि पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक की मौजूदगी में हावड़ा स्टेशन को यह उपाधि दी गयी। महाप्रबंधक को एक सोने का स्मृति चिन्ह सौंपा गया। मूल रूप से, हावड़ा स्टेशन अब तक एक सिल्वर स्टेशन था। बुधवार से इस स्टेशन का नाम बदलकर गोल्डन स्टेशन कर दिया गया है। ज्ञात हो कि आईजीबीसी पर्यावरण के आधार पर इमारतों की रेटिंग कर रही है। उस वातावरण के कारण हावड़ा स्टेशन को गोल्डन स्टेशन कहा गया है। संयोगवश, समय बदलने के साथ हावड़ा स्टेशन का स्वरूप भी बदल गया है। अगर आप हावड़ा स्टेशन के फूड प्लाजा के पास जाएंगे तो आपको आधुनिकता का उजला चेहरा नजर आएगा। जानकारों के मुताबिक ये इस खिताब को जीतने का एक कारण हो सकता है। इस मौके पर संजीव कुमार को नया डीआरएम नियुक्त किया गया।

इस अवसर पर रेलवे अधिकारी मनीष जैन उपस्थित थे। मुख्य अतिथि पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक एपी द्विवेदी भी थे। उन्होंने कहा कि हावड़ा स्टेशन सचमुच में इस सम्मान को पाने का हकदार है। 17 अप्रैल 2018 में भारतीय रेलवे की हरित पहल को बड़ा बढ़ावा देते हुए, हावड़ा रेलवे स्टेशन को आईजीबीसी ग्रीन रेलवे स्टेशन रेटिंग सिस्टम के तहत सीआईआई-आईजीबीसी सिल्वर रेटिंग से सम्मानित किया गया था। प्लेटफार्मों की संख्या के मामले में देश में सबसे बड़े हावड़ा रेलवे स्टेशन को कुछ बेहतरीन हरित इमारतों और स्टेशन की छतों की स्थापना, जल प्रबंधन, मशीनीकृत सफाई जैसी यात्री-अनुकूल सुविधाओं को शामिल करने के लिए सीआईआई-आईजीबीसी ग्रीन रेटिंग से सम्मानित किया गया था। दिन के समय कोई कृत्रिम रोशनी नहीं, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, ताजी हवा का वेंटिलेशन, सार्वभौमिक पहुंच, पैदल यात्री मित्रता और पहले और आखिरी मील कनेक्टिविटी।

उल्लेखनीय है कि हावड़ा का रेलवे स्टेशन भारत में सबसे पुराना रेलवे स्टेशन है। इसकी बिल्डिंग को साल 1854 में बनाया गया था। हुगली नदी के किनारे बना हावड़ा रेलवे स्टेशन कोलकाता से हावड़ा पुल के माध्यम से जुड़ता है। पूरे भारत में हावड़ा रेलवे स्टेशन पर सबसे ज्यादा रेलगाड़ी के डिब्बे को रखने की क्षमता है। लोगों की आवाजाही के लिए हावड़ा से देश के तकरीबन हर इलाके के लिए 23 प्लेटफॉर्म से ट्रेनें चलती हैं।

About editor

Check Also

बंगाल की धरती पर हुआ राष्ट्रीय झंडे का अपमान।

Howrah :जहां लोग तिरंगा झंडा को लेकर आन बान शान के लिए मर मिटने को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *